Popular Posts

Friday, 17 February 2012

लोकपाल


कूड़ा बीनने वाले से कहा ,
सुनो लोकपाल बिल पास होने वाला है ,
मैली कमीज में कापते हुए वह बोला ,
अब तो बाबूजी मुझे कूड़ा नहीं बिनना पडेगा ,
एक कृशकाय शरीर रिक्शा खीच रहा था ,
उसे भी बताया लोकपाल बिल पास होने वाला है ,
बीडी का कश लगाकर बोला ,
तब तो , अब मुझे मजदूरी ज्यादा मिलेगी ,
कड़कती ठण्ड में , कोहरे भरी रात में ,
पुराने कम्बल में लिपटा फूटपाथ पर सोये ,
एक बेघर को बताया , लोकपाल बिल पास हों वाला है ,
वह बोला अब तो मुझे घर मिल जाएगा ,
में सोच रहा था , लोकपाल इतनी बहस हो रही है ,
अन्ना अनशन कर रहे है , नेता आपस में उलझ रहे है ,
लोकपाल बी कैसा भी पास हो , कूड़ा बीनने वाला कूड़ा ही बीनेगा,
रिक्शा वाला रिक्शा ही चलाएगा ,
घर की आस में जीने वाला बेघर ही मर जायेगा ,
हाँ, लोकपाल बिल पास हो जायेगा  
                           विनोद भगत

No comments:

Post a Comment