Popular Posts

Friday, 17 February 2012

खोखले वादों


टूटती उमीदों के रिसते,
जख्मों पर ,
खोखले वादों का मरहम लगाकर ,
मानवीय संवेदनाओं के साथ खेलना ,
कब तक चलेगा ,
निराश हताश सी मानवीयता ,
अनैतिकता की बुलंद होती ,
इमारतों पर ,
अट्टहास करते ,
नैतिकता के शत्रु ,
रौदेंगे कब तक ,
चीत्कार करती मानवता ,
किसी अवतार की ,
कब तक करेगी प्रतीक्षा ,
आहों से उपजी पीडाओं का ,
क्रंदन कब तक ,
कौन बनेगा अवलंबन ,
मानवीयता का ,
धर्म के नाम पर अधर्म
की गाथा से काले होते ,
पन्ने इतिहास के ,
कौन धोएगा ,
इन यक्ष प्रश्नों को ,
कब तक रहना होगा ,
अनुत्तरित -
            विनोद भगत

No comments:

Post a Comment