Popular Posts

Thursday, 4 April 2013

गीत लिखा है मैंने ,


दर्द की स्याही से गीत लिखा है मैंने ,
वेदना को अपना मीत लिखा है मैंने ,
बड़ी लम्बी हो गयी है व्यथा की कथा,
ह्रदय की करुणा का संगीत दिया है मैंने,
दर्द में भी अनोखा स्वाद आने लगा है मुझे ,
तुम क्या जानो पीड़ा को जीत लिया है मैंने ,
जो पूछते हो मुस्कराता हूँ क्यों हर दम मैं ,
हर हाल में जीवन जीना सीख लिया है मैंने
दर्द की स्याही से गीत लिखा है मैंने ,
वेदना को अपना मीत लिखा है मैंने ,
विनोद भगत

No comments:

Post a Comment