Popular Posts

Wednesday, 24 October 2012

कैसे लिखू.....


कैसे लिखू गीत मैं श्रृंगार के ,
तुम ही बताओं जरा ,
जब जल रहा हो देश ,
भूख और बेबसी के अंगार में ,
क्रंदन हो , रुदन हो , आर्तनाद हो ,
बाला के पायल की झंकार में ,
अमानवीयता का बोलबाला हो ,
मानवता आंसू बहा रही हो कहीं भंगार में ,
कैसे लिखूं मैं गीत श्रृंगार के ,
तुम ही बताओं ज़रा ,
धर्म , जाती के नाम पर विभाजन का विष ,
वोट के लिए खून बहाना ,
बहाना बना देश सेवा का ,
गीत लिखूंगा मैं , पर ठहरो अभी ,
श्रृंगार का नहीं यह समय ,
अभिसार का नहीं यह समय ,
समय है शब्द क्रान्ति का ,
शब्दों ने बदला है इतिहास ,
एक निवेदन छिपा है ,
मेरे इस इनकार में ,
कैसे लिखूं गीत मै श्रृंगार के
copyright@विनोद भगत

No comments:

Post a Comment