Popular Posts

Wednesday, 24 October 2012

जड़ों से बिछड़ने की कीमत


कंधे पर बस्ता ,
हाथों में गुलेल ,
लौट कर आते थे ,
पाठशाला से ,
धूल भरी पगडण्डी ,
पैरों में रबर की चप्पलें ,
बेतरतीब बाल ,
किनारे के पेड़ो पर ,
कभी चढ़ जाना ,
चिड़िया के घोसले में ,
ना जाने क्या तलाशना ,
पाठशाला के मास्साब को देख कर ,
छुप जाना , पतली मजबूत डंडियों के हाथों पर निशान,
अठखेली करते मस्ती से घर पहुचना ,
सच कितना आनंद था ,
अब तो अकल्पनीय लगता है यह सब ,
चकाचक चमकते जूते,
झकाझक कपडे ,
गले में टाई,
पीठ पर बस्ते का बोझ ,
बस के भीतर की घुटन ,
मास्साब नहीं , सर का बेगानापन ,
अब पढने में मज़ा नहीं आता ,
फिर कब मिलेगी वो पतली डंडियों की मार ,
पगडंडियों का अपनापन ,
काली डामर की सड़कों से,
जुड़ नहीं पाया कभी नाता ,
अ आ के बदले ए बी से शुरुआत ,
हमें अपनी ही संस्कृति से ,
बिछोह के रास्ते पर ले जाती ,
जड़ों से बिछड़ने की कीमत चुकानी पड़ेगी ,
नहीं हम जड़ों से बिछड़ने की कीमत तो ,
चुका ही रहे हैं ,

कापीराईट @विनोद भगत

No comments:

Post a Comment