Popular Posts

Wednesday, 24 October 2012

कभी कभी

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
खाने में जब तेरे सर का बाल आता है ,
गुस्सा नाक पर कुछ यूँ चला आता है ,
उफनते दूध में ज्यों उबाल आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है ,
ओ मेरी हथिनी , ओ मेरी गजगामिनी ,
यूँ ना चलो मेरे इस सरकारी मकान में ,
तुम्हारे कदमो से यहाँ भूचाल आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है ,
शापिंग को चलती हो जब भी तुम साथ ,
तुम्हारे लिए ना जाने क्या क्या मिलता है ,
हमारे आंसुओं के लिए बस रुमाल आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
विनोद भगत(

No comments:

Post a Comment