Popular Posts

Wednesday, 24 October 2012

पेट की आग


पेट में उनके आग होती है ,
जिनके चूल्हे बुझे होते हैं ,
बुझे चूल्हे की आग पेट से ,
जब बाहर निकलती है ,
तब विकराल हो जाती है ,
चूल्हे की आग से ज्यादा ,
पेट की आग तेजी से भड़कती है ,
इस पेट की आग को और मत भड़काओ ,
पेट की भड़की आग सब कुछ भस्म कर देगी ,
पेट सबके पास होता है ,
पेट में चूल्हा जब जलेगा ,
हर घर से उठेगा धुंए का गुबार ,
उस गुबार में कुछ नजर नहीं आयेगा ,
चारो और गुबार ही गुबार ,
धुएं के इस गुबार में ,
सभ्यता का खेल ख़त्म हो जाएगा ,
तब संघर्ष, भीषण संघर्ष होगा ,
सभ्यताएं और मानवताएं तब सिसकेंगी ,
पेट में आग मत भड़काओ ,
चूल्हों की आग जलाओ ,
चूल्हों की आग जलाओ ,
चूल्हों को मत बुझने दो ,
चूल्हों को मत बुझने दो ,

कापीराईट @विनोद भगत

No comments:

Post a Comment