Popular Posts

Friday, 17 February 2012

टुकड़े


टुकड़े कितने जरुरी है ,
रोटी का हो या जमीन का ,
और कडकती ठण्ड में ,
एक अदद धूप का टुकड़ा ,
जीवन की निशानी होता है ,
पर टुकडो में बटना किसी को स्वीकार नहीं ,
फिर भी हम रोटी और जमीन के टुकड़े के लिए ,
टुकड़ों में बंट रहे है ,
एक टुकडा रोटी देने को हम तैयार नहीं ,
पर ह्रदय के टुकड़े करने में हमे महारथ हासिल है ,
टुकडा टुकडा होते हम ,
नहीं समझ पा रहे अभी भी हम ,
और कितने टुकड़ों में बटेंगे हम ,
टुकडा होने का यह खेल जारी रहेगा कब तक ,
कब सोचेंगे हम ,
नहीं जानते ,
 अभी तो टुकडा टुकडा होने में व्यस्त है
                           विनोद भगत

2 comments:

  1. समाज की सच्चाई को प्रदर्शित करती पंक्तियाँ | बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  2. उम्दा विनोद जी सुन्दर भावों से सजाया है आपने आपनी प्रस्तुति को

    ReplyDelete