Popular Posts

Saturday, 29 December 2012

सुनो सरकारों ,

हम अब चीखेंगे नहीं ,
हम अब तुमसे अपनी सुरक्षा नहीं चाहेंगे ,
अब तुम अपनी सुरक्षा की सोचो ,
अबका आन्दोलन स्वतःस्फूर्त है ,
करोडो की भीड़ अब जाग रही है ,
तुम हमें कुचलते आये हो ,
हमारी भावनाओं से खेलते आये हो ,
बहुत हो चूका खिलवाड़ ,
बंद कर दो यह सब ,
अब किसी दामिनी को,
मौत के आगोश में नहीं जाने देंगे ,
समझ गए हम तुम्हें, तुम दरिंदों के रक्षक हो ,
हमने सौपा हैं तुम्हें यह देश ,
तुम हमारे सेवक थे ,
हुक्मरान बन कर,
अहसानफरामोशी की हद पार कर दी तुमने ,
लाओ लौटा दो हमारा देश हमें ,
हम नहीं चाहते तुमसे अपनी सुरक्षा ,
नहीं चाहते , नहीं चाहते ,नहीं चाहते
पूरा देश तुम पर लानत भेज रहा है ,
तुम छोड़ दो कुर्सियां ,
दरअसल तुम इस लायक नहीं हो ,
जाग चुके हैं अब हम ,
कई दामिनियों को खो चुके हैं हम ,
अब नहीं खोना चाहते ,
तुम्हारे हर आश्वासन झूटे निकले ,
खरा समझे थे तुम्हें खोटे सिक्के निकले
तुम कभी नहीं रोक पाओगे
दामिनियो के साथ अनहोनियों को ,
दरअसल तुम हर अपराध में बराबर के भागीदार हो ,
मुक़दमा तुम पर चले , सजा तुमको मिले ,
तभी रुक पायेंगे यह सिलसिले ,
तुम शर्मिंदा नहीं, शर्मिंदा होने का नाटक करते हो ,
अब हम शर्मिन्दा हैं तुम्हें अपना रखवाला बनाकर ,
भेडियों को बगल में बिठाने वालों से इन्साफ की उम्मीद अब नहीं ,
विनोद भगत

Wednesday, 26 December 2012

देह की गंध

देह की गंध को सूंघते है कुछ कुत्ते ,
देह ललचा रही है कुत्तों को ,
यह दरअसल कुत्ते नहीं थे ,
देह ने उन्हें बना दिया कुत्ता ,
कुत्तों की भीड़ बढती जा रही हैं ,
इस भीड़ में ऐसे भी हैं कुत्ते ,
जो सभ्य समाज के मुखौटे भी हैं ,
पर देह ने उन्हें कुत्तों की पंक्ति में खड़ा कर दिया है ,
चेहरे छुपाने की कोशिश नाकाम हो रही है ,
वह पहचान लिए गए हैं ,
अब उनका शुमार भी कुत्तों में होने लगा है ,
अभी कुत्तों की संख्या और बढेगी ,
देह की गंध फैलती जा रही है ,
देह भी उघडती जा रही है ,
उघडती देह को रोकना होगा ,
कुत्ते बढ़ते जा रहे हैं ,
कहीं आदमी ढूढने ना पड़े कुत्तों के बीच से ,
देह को संभालो , कुत्ते कम होंगे

विनोद भगत

Saturday, 10 November 2012

अग्नि परीक्षा ,


त्रेता युग से कलयुग तक ,
सीताओं ने ही दी है अग्नि परीक्षा ,
किसी राम ने अग्नि परीक्षा देने की
जरुरत ही नहीं समझी ,
राम तो अग्नि परीक्षा लेने के लिए हैं ,
अग्नि परीक्षा लेकर भी सीताओं को
वन में भटकना पड़ता है ,
सीता आज भी अग्नि से होकर आती है ,
सीता औरत थी , राम पुरुष थे ,
पुरुष को है अधिकार त्रेता युग से ही ,
अग्नि परीक्षा लेने का ,
अगर आज सीता देती है अग्नि परीक्षा ,
यही तो है हमारी परंपरा ,
हम यही जानते हैं , हम यही पढ़ते हैं ,
आखिर राम हमारे आदर्श हैं ,
मर्यादा हैं , मर्यादा का पालन करेंगे ,
हाँ , हम सीता की अग्नि परीक्षा लेते रहेंगे ,
सदियों तक , युगों तक ,
पर याद रहे हम आगे बढ़ रहे हैं ,
परम्परा पुरानी निभा रहे हैं ,
अपने मतलब के लिए गढ़ते है
शब्दों ग्रंथो के अर्थ ,
हम कभी नहीं देंगे अग्नि परीक्षा ,
पुरुष होने मात्र से हम पवित्र है ,
नारी देवी है ना ,
इसलिए अग्नि परीक्षा देती आयी है ,
विनोद भगत

Friday, 26 October 2012

गांधी आ गए स्वप्न में ,

आज गांधी आ गए स्वप्न में ,
चेहरे पर दर्द के भाव थे ,
पीड़ा भरे स्वर में बोले ,
मै रास्ट्रपिता हूँ क्या इसी देश का ,
लाठी हो के भी बिना लाठी के लड़ा ,
क्या इसी देश के लिए ,
मेरे हाथ में नोट देखकर ले लिया ,
तस्वीर देख कर आखों में नमी भर आयी ,
अरे यह क्या ,
हर घोटाले हर भ्रष्टाचार में मेरा भी चित्र पहले आता है ,
एक और आन्दोलन करना होगा ,
मत कहो मुझे रास्ट्रपिता ,
मिटा दो मेरी तस्वीर नोट से ,
जहाँ ,भूख , भ्रष्टाचार , बेरोजगारी पलती हो ,
जहाँ दो वक़्त की रोटी के लिए जिस्म बिकते हों ,
मै वहां का रास्ट्रपिता हूँ ,
जहां देशी भाषा का अपमान होता हो ,
जहाँ रिश्तों का भी मोल लगता हो ,
मेरे नाम का भी सौदा होता हो ,
चश्मा उतार कर आँखों को पोछने लगे बापू ,
रुधे गले से बोले ,
इतना दर्द तो तब नहीं हुआ मुझे जब ,
प्रार्थना सभा में गोली लगी ,
मै सत्य कहता हूँ ,
आज वह दर्द महसूस हुआ है ,
और इतना बड़ा झूठ ,
अब भी कहते हैं ,
मेरे देश के लोग ,
मेरा भारत महान ,
यह कैसी महानता है ,
कई प्रश्नों का जवाब लिए बिना ,
बापू ना जाने कहाँ चले गए ,
मै निरूत्तर , शर्मिन्दा सा ,
नींद से जगा ,
बापू के प्रश्नों का,
जवाब ढूढ़ रहा हूँ

copyright@विनोद भगत

Wednesday, 24 October 2012

कभी कभी

कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
खाने में जब तेरे सर का बाल आता है ,
गुस्सा नाक पर कुछ यूँ चला आता है ,
उफनते दूध में ज्यों उबाल आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है ,
ओ मेरी हथिनी , ओ मेरी गजगामिनी ,
यूँ ना चलो मेरे इस सरकारी मकान में ,
तुम्हारे कदमो से यहाँ भूचाल आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है ,
शापिंग को चलती हो जब भी तुम साथ ,
तुम्हारे लिए ना जाने क्या क्या मिलता है ,
हमारे आंसुओं के लिए बस रुमाल आता है
कभी कभी मेरे दिल में ख़याल आता है
विनोद भगत(

जड़ों से बिछड़ने की कीमत


कंधे पर बस्ता ,
हाथों में गुलेल ,
लौट कर आते थे ,
पाठशाला से ,
धूल भरी पगडण्डी ,
पैरों में रबर की चप्पलें ,
बेतरतीब बाल ,
किनारे के पेड़ो पर ,
कभी चढ़ जाना ,
चिड़िया के घोसले में ,
ना जाने क्या तलाशना ,
पाठशाला के मास्साब को देख कर ,
छुप जाना , पतली मजबूत डंडियों के हाथों पर निशान,
अठखेली करते मस्ती से घर पहुचना ,
सच कितना आनंद था ,
अब तो अकल्पनीय लगता है यह सब ,
चकाचक चमकते जूते,
झकाझक कपडे ,
गले में टाई,
पीठ पर बस्ते का बोझ ,
बस के भीतर की घुटन ,
मास्साब नहीं , सर का बेगानापन ,
अब पढने में मज़ा नहीं आता ,
फिर कब मिलेगी वो पतली डंडियों की मार ,
पगडंडियों का अपनापन ,
काली डामर की सड़कों से,
जुड़ नहीं पाया कभी नाता ,
अ आ के बदले ए बी से शुरुआत ,
हमें अपनी ही संस्कृति से ,
बिछोह के रास्ते पर ले जाती ,
जड़ों से बिछड़ने की कीमत चुकानी पड़ेगी ,
नहीं हम जड़ों से बिछड़ने की कीमत तो ,
चुका ही रहे हैं ,

कापीराईट @विनोद भगत

घोटाले का पेड़ ,


पैसा पेड़ पर नहीं लगता ,
गलत,
पैसा अब पेड़ पर ही लगता है ,
एक पेड़ होता है ,
घोटाले का पेड़ ,
भारत में विकसित एक नई प्रजाति का वृक्ष ,
बहुत तेजी से बढता है ,
ख़ास तौर से नेताओं के वहां तो वृद्धि दर तीव्र है इसकी ,
प्रजाति के अलग अलग नाम है ,
टू जी , कॉमनवेल्थ , कोलगेट,
जाने कितने नाम है जी ,
हाँ , आम आदमी इस पेड़ को लगा ही नहीं सकता ,
केवल इसके बारे में सुन सकता है ,
वह तो जो उगाता है ,
उसकी भी कीमत नहीं पाता है ,
आम आदमी चमत्कृत हो सकता है ,
यह सुनकर कि घोटाले का पेड़ होता है ,
पैसा पेड़ पर ही लग रहा है ,
आम अमरुद के पेड़ से पैसा कैसा ,
घोटाले का पेड़ लगाओ ,
पैसा ही पैसा पाओ

विनोद भगत

कैसे लिखू.....


कैसे लिखू गीत मैं श्रृंगार के ,
तुम ही बताओं जरा ,
जब जल रहा हो देश ,
भूख और बेबसी के अंगार में ,
क्रंदन हो , रुदन हो , आर्तनाद हो ,
बाला के पायल की झंकार में ,
अमानवीयता का बोलबाला हो ,
मानवता आंसू बहा रही हो कहीं भंगार में ,
कैसे लिखूं मैं गीत श्रृंगार के ,
तुम ही बताओं ज़रा ,
धर्म , जाती के नाम पर विभाजन का विष ,
वोट के लिए खून बहाना ,
बहाना बना देश सेवा का ,
गीत लिखूंगा मैं , पर ठहरो अभी ,
श्रृंगार का नहीं यह समय ,
अभिसार का नहीं यह समय ,
समय है शब्द क्रान्ति का ,
शब्दों ने बदला है इतिहास ,
एक निवेदन छिपा है ,
मेरे इस इनकार में ,
कैसे लिखूं गीत मै श्रृंगार के
copyright@विनोद भगत

तुम कौन हो


अभिलाष लिए प्रीत की ,नयन निहार रहे पथ

अभिसार को आतुर ,प्रिय से मिलने को उन्मत्त

शब्द भी मादक मादक ,प्रेम की पराकाष्ठाएं

प्रेम ग्रन्थ की नायिका लज्जा के आभूषण सजाये

ह्रदय में फूटे प्रेम के अंकुर ,आमंत्रण के स्वर भी मौन है ,

रूप के अनंत सागर में उतराती हिलोरे लेती यह कौन है

चंचल कामिनी सी किस कवि का प्रेम गीत हो

या तुम कान्हा की बांसुरी का मधुर संगीत हो

विनोद भगत

सबसे बड़ी आपदा


लाशें गिनकर मुआवजा हम देंगे ,
आपदा की क्यों चिंता करते हो ,
हम हैं तो सही , जिन्दे को भूखा रख देंगे ,
गिनते जाओ लाशें दर लाशें ,
हमारा खजाना भरा है ,
यहाँ जिन्दा रहने पर कुछ नहीं मिलेगा ,
हम आखिर सरकार है , फर्ज अपना ,
पूरा निभायेंगे , आपदा प्रबंधन नहीं कर पाए तो क्या ,
तुम्हारे मरने पर शोक जताएंगे ,
आपदा राहत के मद का भी उपयोग करना है ,
नहीं तो , वह पैसे भी लेप्स हो जायेंगे ,
दो आंसू दिखावे के तो बहायेंगे ,
आखिर जनता के प्रति भी तो फर्ज निभायेंगे ,
आपदा तो दैवीय है , हम इन्सान क्या कर पायेंगे ,
मत घबराओ , मत शोर मचाओ ,
तुम ही ने तो हम जैसी आपदा को पैदा किया ,
हम सबसे बड़ी आपदा हैं ,
हमसे नहीं घबराए , तो अब किससे डरते हो ,
लाशें गिनकर मुआवजा हम देंगे ,
आपदा की क्यों चिंता करते हो ,

कापीराईट @विनोद भगत

पेट की आग


पेट में उनके आग होती है ,
जिनके चूल्हे बुझे होते हैं ,
बुझे चूल्हे की आग पेट से ,
जब बाहर निकलती है ,
तब विकराल हो जाती है ,
चूल्हे की आग से ज्यादा ,
पेट की आग तेजी से भड़कती है ,
इस पेट की आग को और मत भड़काओ ,
पेट की भड़की आग सब कुछ भस्म कर देगी ,
पेट सबके पास होता है ,
पेट में चूल्हा जब जलेगा ,
हर घर से उठेगा धुंए का गुबार ,
उस गुबार में कुछ नजर नहीं आयेगा ,
चारो और गुबार ही गुबार ,
धुएं के इस गुबार में ,
सभ्यता का खेल ख़त्म हो जाएगा ,
तब संघर्ष, भीषण संघर्ष होगा ,
सभ्यताएं और मानवताएं तब सिसकेंगी ,
पेट में आग मत भड़काओ ,
चूल्हों की आग जलाओ ,
चूल्हों की आग जलाओ ,
चूल्हों को मत बुझने दो ,
चूल्हों को मत बुझने दो ,

कापीराईट @विनोद भगत

हे , कृष्ण , तुम फिर आ जाओ


हे , कृष्ण , तुम फिर आ जाओ ,
पर अबकी बार कई है द्र
ौपदियां ,
साड़ी बहुत सी लेकर आना ,
और हाँ , लाखों है अब कंस यहाँ ,
पुतनाओं की तो भरमार है ,
अफ़सोस अर्जुन युधिस्ठिर सरीखे मित्र सखा ,
अब शायद ना मिल पायें ,
मिल भी जाएँ तो फटेहाल ही मिलेंगे ,
मै तुम्हें बुला तो रहा हूँ ,
और मुझे यह भी पता है ,
तुम भी अब दुर्योधन के साथी साबित कर दिए जाओगे ,
हाँ, अब यही होता है यहाँ ,
तुम्हें भागना पढ़ सकता है ,
तुम्हारा गीता ज्ञान पढ़ते तो हैं ,
पर अनुसरण दुर्योधन और कंस का करते हैं ,
सोच रहा हूँ ,
तुम्हें आने से रोक दूं ,
पर नहीं ,
तुम एक बार आ जाओ ,
आकर देख जाओ ,
आओगे ना तुम ,
हे क्रष्ण तुम फिर आ जाओ

copyright@ विनोद भगत

बदल रहा है ज़माना

बदल रहा है ज़माना , यह हमने माना ,
रिश्तों की बदली बदली परिभाषा,
बुन रहे अब नफ़रत का ताना बाना ,
तोड़ दिए हैं अब प्रेम के सभी साज़ ,
कैसे गायें अब मधुरता का तराना ,
बदल रहा है ज़माना , यह हमने माना ,
अपने ही दे रहे चोट दर चोट ,
किसे कहें अपना , कौन है बेगाना ,
रस्मो रिवाज़ भूल कर सभी ग़ुम हो गए ,
नयी हो गयी राहें भी, यह हमने जाना ,
बदल रहा है ज़माना , यह हमने माना ,
कोई किसी के लिए नहीं रोता ,
अब कोई किसी का नहीं बनता ,
आसान है हाथ छोड़कर बीच राह में ,
और कितना मुश्किल है साथ निभाना
बदल रहा है ज़माना , यह हमने माना ,

copyright@विनोद भगत
"

" आरक्षण आरक्षण

आओ, मैं तुम्हें खाउंगा ,
मैं आरक्षण हूँ ,
रक्षण नहीं, भक्षण करता हूँ ,

सपनो का , अरमानों का ,
देखो मेरा दम ,
योग्य जो है उसे अयोग्य बना देता हूँ ,
अयोग्य को प्रश्रय देता हूँ ,
तुम असहाय हो ,
एक पल में बता देता हूँ ,
मुझे सरंक्षण है ,
वोट के सौदागरों का ,
मै जानता हूँ ,
तुम नहीं कर सकते कुछ भी ,
मैं अट्टहास कर रहा हूँ ,
मुझे सींच रहे हैं तुम्हारे नीति नियंता ,
दरअसल सवर्ण होना अभिशाप बन गया है ,
तुम्हारे लिए ,
तुम सवर्ण हो ,
इसलिए शर्म आनी चाहिए तुम्हें ,
सवर्ण कहीं के ,
गाली बन गया है ,
अब सवर्ण शब्द ,
हाँ, तुम सवर्ण हो , सवर्ण हो ........
 
कापीराईट @विनोद भगत
"
.

प्यार नफ़रत


इस भागती ज़िन्दगी में प्यार के लिए फुरसत नहीं मिलती,
ना जाने फिर भी लोग नफ़रत का वक़्त कैसे निकाल लेते हैं ,
नहीं मुक्कम्मल जिंदगी जीने का जिनके पास सलीका ,
वोह , कितनी आसानी से मौत का सामान निकाल लेते हैं ,
खुद को आईने मे देखकर खुद ही खुद पर इतराते रहते है
बिना देखे दूसरों में ना जाने कैसे नुख्स निकाल लेते हैं
वफ़ा करना जिनकी फितरत में नहीं कभी दोस्तों ,
यारों को अपने कैसे बेवफा कह दिल से निकाल लेते हैं ,

कापीराईट @विनोद भगत

पैसा नहीं आत्मीयता

सुनो भाई ,
कोई तो सुनो ,
मै भी पैसे वाला बनूंगा ,

और जब मै पैसे वाला ,
बहुत सारे पैसे वाला बन जाउंगा ,
तब भी, मुझे तुम ऐसे ही स्नेह दोगे ,
अरे , स्नेह के बदले पैसा दूंगा ,
तुम मेरी वाह वाह करना ,
उसके भी पैसे दूंगा ,
मै पैसे से सम्मान खरीदूंगा ,
मै पैसे के लिए कहीं तक भी गिर जाउंगा ,
पर तुम तो फिर भी मेरा सम्मान ही करोगे ,
आंखिर मै पैसे वाला हूँ ,
पैसे के बदले मुझे तुम अपनी आत्मीयता भी दोगे ,
मै जानता हूँ , अच्छी तरह जानता हूँ ,
मै तुम्हारी आत्मीयता नहीं खरीद पाउँगा ,
पैसा मुझे तुम्हारी आत्मीयता से दूर कर देगा ,
सोच रहा हूँ , मै ऐसे ही ठीक हूँ ,
मुझे पैसे से ज्यादा आपकी आत्मीयता प्रिय है ,
हाँ सोच लिया ,
मै पैसे वाला नहीं,
केवल तुम्हारा मित्र बने रहना चाहूँगा ,
तुम मेरे मित्र हो ,
इससे बड़ा धन और क्या होगा
विनोद भगत
"

दहलीजें,

दहलीजें,
अब नहीं होती घरो में ,
इसीलियें,
मर्यादाएं भी टूट रही हैं ,
दहलीज़ लांघने का,
एक मतलब होता था ,
अब दहलीज़ ही नहीं
तो मतलब भी ख़तम
दहलीजें जो संस्कृति का ,
वाहक थी ,
दहलीजों पर उकेरे ,
जाते आलेखन ,
घर की सांस्कृतिक ,
पहचान का परिचय होता था ,
दहलीज़ सीमा होती थी ,
अब सीमाओं से परे हो गए हैं हम ,
दहलीज़ को भुला दिया है ,,
बार लांघने के बजाय दहलीज़ को ,
हटा दिया ,
अब मर्यादाओं के टूटने का कोई डर नहीं

विनोद भगत
"

प्रतिभा तो घर में ही रहेगी ,


भई वाह ,
क्या खूब लिखते हो ,
आम आदमी की पीड़ा पर कलम चलाते हो ,
पहनावे से तो तुम ऐसे ही लगते हो ,
क्या शानदार रचना लिखते हो ,
मेरी प्रशंसा से क्यों सकुचाते हो ,
तुम्हें लिखना चाहिए , लगातार लिखो,
प्रतिभा छुपी नहीं रहनी चाहिए ,
उसे बाहर निकालो ,
अब उसने भी मुह खोला ,
देखिये बाबूजी ,
प्रतिभा तो घर में ही रहेगी ,
और आप पता नहीं क्या क्या अनाप शनाप बके जा रहे हैं ,
आप लोगो ने हमारी जेबें तक तो खाली करा ली ,
अब घरवाली को भी घर से निकालोगे ,
हाँ , लाओं, मेरे महीने के हिसाब का पर्चा तो दे दो ,
लाला गड़बड़ कर देगा ,
इस पर्चे को देख कर पता नहीं आप क्या बडबडा रहे हो ,
दाल , आटे का बढता भाव और सिलेंडर के दाम लिखे हैं इस पर ,
आप पता नहीं क्या समझ रहे हो ,
पप्पू की फीस और घर के राशन का हिसाब,
यह तो हम रोज़ ही लिखते पढते और समझने की कोशिश में हैं ,
पर अब तक नहीं समझे ,
आप समझे क्या ,

कापीराईट @ विनोद भगत

शब्द


शब्द अमृत हैं कभी , शब्द विष भी होते हैं
शब्द प्राण हैं तो शब्द मृत्यु भी होते हैं
शब्द सम्बन्ध, तो शब्द बिखराव भी होते हैं
शब्द अपने हैं , शब्द पराये भी होते हैं
शब्द ख़ास हैं , शब्द आम भी होते हैं
शब्द मित्र हैं , शब्द शत्रु भी होते हैं
शब्द धरती हैं , शब्द आकाश भी होते हैं
शब्द बनाव हैं , शब्द बिगाड़ भी होते हैं ,
शब्द सत्य हैं , शब्द झूठ भी होते हैं ,
शब्द शब्द हैं , शब्द नि :शब्द भी होते हैं
शब्द बचाव हैं , शब्द नाशवान भी होते हैं ,
शब्द दानव हैं , शब्द भगवान् भी होते हैं ,
शब्द प्राणवान हैं , शब्द मारक भी होते हैं ,
कापीराईट @विनोद भगत

असहाय लोग ,



सुलगते सवालों के बीच ,
धधकते समाज के साथ ,
जी रहे असहाय लोग ,
धुंआ धुंआ होते अरमानों ,
की लाश पर बेजार रोते ,
मरते हुए जी रहे असहाय लोग ,
नित जीने की आशा दिखाते ,
रोज़ पैदा हो रहे मसीहाओं के फुस्स होते ,
आंदोलनों के भंवर में फसे ,
ना जाने कैसे जी रहे असहाय लोग ,
अरबों के वारे न्यारे हो रहे यहाँ ,
बेदर्दों की हमदर्दी के दर्द से कराह रहे ,
बेहद पीड़ा है मन में
फिर भी जी रहे असहाय लोग ,
सुलगते सवालों के बीच ,
धधकते समाज के साथ ,
जी रहे असहाय लोग ,
विनोद भगत

Thursday, 7 June 2012

कहानी -----एक और गुलाबो


eSa u;k u;k bl 'kgj esa vk;k FkkA igyh iksfLVax FkhA cM+h eqf'dy ls ,d dejk feykA mlesa Hkh dbZ izfrca/k ukS cts ckn ugha vkvksxs] ykbV Qkyrw ugha tykvksxs] oxSjk  oxSjkA [kSj] eq>s dejk pkfg;s FkkA izfrca/kksa vkSj 'krkZs ls eSus le>kSrk dj fy;kA edku  ekyfdu ,d v/ksM+ fdUrq jkSchys O;fDrRo dh Lokfeuh FkhA
igys gh fnu mlus eq> ij vius jkSchys Hkkjh Hkjde O;fDrRo dh Nki NksM+ nhA eSa eu gh eu lksp jgk Fkk fd [kqys vkSj LOkPNan ekgkSy esa jgus dk vknh esa bl izfrcaf/kr okrkoj.k ds tky dh NViVkgV esa dSls jg ikÅaxkA fdUrq vxys dqN fnuksaa esa og gqvk ftldh eSaus dHkh dYiuk Hkh u dh FkhA
        eSa izfrfnu vius vkfQl fjD'kk ls gh vkrk tkrk Fkk esjk dejk lM+d dh rjQ Fkk blls eq>s fo'ks"k fnDdr ugha gksrh FkhA esjh edku ekyfdu dk ukSdj esjk fo'ks"k [;ky j[krk FkkA 'kk;n mls bl ckr ds funZs'k FksA ,d fnu 'kke ds le; tc eSa vius dejs esa okil vk jgk Fkk fd xyh ds uqDdM+ ij eq>s ,d ;qorh fn[kkbZ nhA xkSj o.khZ; ml ;qorh dk lkSan;Z vuqie rks ugha dgk tk ldrk fdUrq vkd"kZd vo'; dgk tk ldrk gSA eSa xyh  ds uqDdM+ ij gh fjD'ks ls mrj x;kA iSny tc ml ;qorh ds utnhd igWqpk rks Hkkai x;k fd ;qorh fnu ghu voLFkk esa Fkh fdUrq mldh vka[kksa esa 'kjkjrh ped lkQ fn[kkbZ ns jgh FkhA
eSa vius dejs dh vksj c<+ x;k oSls Hkh pfj= ds ekeys esa eSa vius vki dks lkQ le>rk gw¡A dejs ds ikl igq¡prs gh tSls eSus rkyk [kksyk fd eq>s ihNs vkgV lqukbZ nhA ihNs eqM+dj ns[kk rks ogha ;qorh [kM+h FkhA FkksM+h nsj rd ge nksuksa esa laoknghurk dh fLFkfr jghA ;qorh us nksukas gkFk tksM+dj esjk vfHkoknu fd;kA
        tcko esa eSaus iwNk]^^D;k pkfg;sA**
        pgdrh Jh ;qorh cksyh] ^^ ckcwth eSa xqykcks g¡wA
        rks ] eSa D;k d:¡] ^^ eSa ml ;qorh ds lkfUu/; ls mruk vkuafnr ugha Fkk ftruk bl ckr ls vkarfdr Fkk fd dgha esjh edku ekyfdu us eq>s fdlh ;qorh ls ckr djus ns[k fy;k rks u tkus esjk D;k gJ gksA blfy;s eSaus mlls ihNk NqM+kus ds mn~ns'; ls :[ksiu ls ckr dhA vHkh eSa mlls NqVdkjk ikus ds ckjs esa lksp gh jgk Fkk fd eq>s ,d vkokt lqukbZ nh vjs xqykcks] ^^;gka D;ksa vkbZ gS] ckcw th D;k vkius bls cqyk;k gSA** xqykcks pgdh ]** vjs ugha] dkdk] eSaa [kqn vkbZ gwWa ckcwth us ugha cqyk;kA** xqykcks us Hkh ,d fu.kkZ;d dh Hkkafr eq>s rRdky nks"k eqDr dj fn;kA dkdk us eq>s dqN dgus ds ctk; xqykcks dks yxHkx MakVus okys vankt esa dgk fd xqykcks] rw ;gka er vk;k dj ekyfdu ukjkt gksrh gSA             
        xqykcks pyh xbZ fdUrq esjs le{k ,d vcw> igsyh  cu dj [;kyksa esa [kM+h jghA eSaus dkdk  dh vksj iz'u Hkjh utjksa ls ns[kk dkdk laHkor% esjh vka[kksa ds iz'u dks i<+ pqds FksA mUgksusas jkt Hkjs vankt  esa dgk ckcwth] ,slh yM+fd;ksa ds PkDdj esa er iM+uk ;s [kqn rks cnuke gSA vkidks Hkh dgha dk ugha NksM+sxhA dkdk us eq>s lykg nh ;k fQj lykg ds cgkus /kedk;k eSa le> ugha ik;kA oSls Hkh ^vkSjr* 'kCn dh eSa dkQh dnz djrk gSA [kkl rkSj ls ,slh vkSajrs a ftuds lkFk ^cnuke* 'kCn tqM+rk gS eSa dbZ ckj lskprk gw¡ fd vkSjr dh cnukeh dk ewy dkj.k iq:"k dh ^gol* gS fQj cnukeh dk nkx  vdsys vkSjr ds nkeu ij gh D;kas\ vkSj eSa dHkh bl iz'u dk larks"k tud mRrj ugha <wa< ik;kA
esjh og jkr xqykcks ds ckjs esa lksprs&lksprs dVhA lqcg vkfQl ds fy;s rS;kj gks jgk Fkk fd njokts ij nLrd lqukbZ nhA eSaus >kaddj ns[kk rks esjh lkal Fke lh xbZA njokts ij xqykcks [kM+h Fkh fcuk fdlh njokts ij xqykcks [kM+h FkhA fcuk fdlh vkSipkfjdrk ds og eq>s ,d rjQ dj dejs ds vanj vk xbZA
 eSa Lojghu LrC/k lk dejs esa [kM+k gks x;kA esjh lakl dh vkokt Hkh dejs  esa xawt jgh FkhA ,dk,d  xqykcks us LrC/krk rksM+hA 'kks[k vkSj papy vkokt  esas cksyh**] ckcwth] vki ;gka vdsys jgrs gSA eSa tkurh gw¡A vki eq>s dke ij j[k yhft;s vkidk lkjk dke dj fn;k d:axhA gka] eghus ds iSls igys r; djus gksaxsA**
,d lk¡l esa xqykcks us vius vkus dk earO; le>k;k vkSj esjs gka ;k u dh izrh{kk fd;s cxSj  xqykcks us Lo;a dks esjh lsok esa fu;qDr Hkh dj fy;kA
vc rd eSa Lo;a dks fu;f=ar dj pqdk FkkA eSaus gYds Loj esa dgk ^^xqykcks] eSa viuk dke  vius vki dj ysrk gw¡aA eq>s rqEgkjh dksbZ t:jr ugha gSA
xqykcks] tks vc rd pgd jgh Fkh] mnkl lh cksyh ^^ rks ckcwth] esjs ckjs esa vkils Hkh dkdk  us mYVk lh/kk dg fn;kA ij ckcwth eSa oSlh ugha] tSlk dgrs  gSaA vki gh crkvksa] D;k fcuk eka cki ds gksuk xqukg gS\ blesa esjk D;k dlwj gS\** bruk dqN dgus esa xqykcks dh vka[kksa esa vkalw vk x;s FksA
mldh fu'Nyrk o lkQxksbZ dk eSa dk;y gksrk tk jgk Fkk esjk g`n;  ^vkSjr* dh bl n'kk ls nzfor gks jgk FkkA ij eu dh laosnuk;sa  eu esa gh nch jghA eSaus mlls bruk gh dgk] ^xqykcks] vc eq>s vkfQl tkuk gS nsj gks jgh gSA**
xqykcks tkrs tkrs cksyh]^^ ckcwth eSa tk jgh gw¡ 'kke dks vkÅaxhA eq>s crk nsuk dc ls dke ij vkuk gSA** og esjs tcko dh izrh{kk fd;s cxSj pyh xbZA
(Øe'k------)
&fouksn Hkxr&

Friday, 30 March 2012

अच्छा और अहम् का सम्बन्ध ,

जब तुम ,
बहुत अच्छे हो जाते हो ,
तब स्वयं को एक नाजुक
मोड़ पर खड़े पाते हो ,
सच तो यह है ,
बहुत अच्छा हो जाने से ,
तुम पर जिम्मेदारियों का बोझ ,
और बढ जाता है ,
क्योंकि बड़ा आसान है ,
अच्छा बन जाना ,
और उतना ही दुरूह है
अपने अच्छेपन को निभाना ,
बहुत अच्छा हो जाना ,
स्वयं को आदर्श बना लेना ,
शायद एक दिन तुम्हारे भीतर के अहम् ,
जागृत कर दे ,
हो सकता है अहम् सच्चा हो ,
पर अहम् तो अहम् होता है ,
जो एक क्षण में तुम्हारे ,
आदर्शो की पराकाष्टा ,
के दुर्ग को नेस्तनाबूद कर दे ,
और तब अच्छा होने के सुख की अपेक्षा ,
एक भीषण पीड़ा ,
तुम्हारे हिस्से आएगी ,
अच्छा होना और अहम् का सम्बन्ध ,
आग और फूस का है ,
फूस तो तभी तक सुरक्षित है ,
जब तक आग से दूर है ,
इसलिए अपने अच्छेपन में ,
अहम् को मिलाने का प्रयास ,
कितना घातक है .
 

                         विनोद भगत


Tuesday, 20 March 2012

संबोधन के उदबोधन

संबोधनों के उदबोधनो को ,
समझ सका है क्या कोई ,
जीवन में बदले संबोधनों के साथ ,
पल पल बदलते जीवन के रहस्य ,
संबोधनों की भाषा को क्या पढ़ पाया कोई,
बदले संबोधन के साथ बढ़ता है जीवन ,
बेटा बेटी के संबोधन के साथ प्रारम्भ हुआ जीवन ,
चाचा मामा , मौसी फूफा के नए संबोधनों के साथ ,
कब बदल गया औए समय आगे चला गया ,
नित नए संबोधन पुराने संबोधनों के साथ ,
आगे बढ़ता यह जीवन संबोधनों से थकता नहीं ,
स्मरण आते हैं पुराने सबोधन जो अब भी है ,
पर संबोधित करने वाले कहीं खो जाते हैं ,
नए संबोधनों का आकर्षण तो है ,
पर पुराने संबोधनों की तृष्णा मिटती नहीं कभी ,
संबोधन के मायाजाल में उलझा उलझा सा जीवन ,
सुलझाने की चेष्टा में और भी उलझा है ,
संबोधन के साथ प्रारम्भ हुआ जीवन ,
संबोधन की यात्रा अनवरत चलती रहेगी ,
संबोधन के मायाजाल से शायद ही कभी ,
मुक्त हो पाए यह जीवन ,
संबोधन है ,
तभी यह जीवन है ,
यही है संबोधन की भाषा और उसका रहस्य

विनोद भगत

Sunday, 18 March 2012

खामोश चाहत

मैं छूना चाहता हूँ ,
तुम्हें ,
कुछ इस तरह कि,
छूने का अहसास ,
भी होने पायें तुम्हें ,
क्योंकि , तुम मेरी खामोश चाहत का ,
मंदिर हो ,
मेरी चाहत का भूले से भी ,
अहसास ना करना ,
क्योंकि ये अहसास ,
तुम्हें चुभन और तड़पन देगा ,
और मैं तुम्हें तडपाना तो नहीं चाहता ,
मैं तो बस चाहते ही रहना ,
चाहता हूँ तुम्हें ,
तुम्हें अपनी चाहत का अहसास ,
दिलाये बिना ,
और मैंने अपनी इसी चाहत को ,
खामोश चाहत ,
का नाम दिया है .

विनोद भगत

Monday, 27 February 2012

कितने स्वार्थी हुए

भटक रहा समाज ,
गिरते नैतिक मूल्य ,
हर मर्यादा टूटी ,
मानवता कर रही रुदन ,
पुरातन परम्पराओं ,
की जल रही हैं चिताएं ,
आधुनिकता का लबादा ओढे हर कोई ,
छल , दंभ , कपट का जीवन जीते हम ,
झूटे अहम् को स्वाभिमान का नाम दिया ,
कितने स्वार्थी हुए हम ,
तोड़कर मर्यादा के बंधन ,
झूठ के पर्वत पर उदित करा रहे ,
प्रगति का सूर्य ,
गीत राम के गाते ,
कर्म रावण के ,
कैसा विरोधा भासी हुआ जीवन

विनोद भगत
 

Sunday, 26 February 2012

नीड़

प्रकृति का जीव ,
 सुन्दर उपहार  है नीड़ ,
नीड़ कवच है ,
जीवन  का ,
नीड़ प्रकृति की ,
सुन्दर कला कृति ,
जीवन का प्रथम,
 सत्य नीड़ ,
कहीं घौसला कहीं मकान ,
पर क्या नीड़ की उपयोगिता ,
 समझ पाया मानव ,
अपने ही हाथों से तोड़ता ,
अपने ही नीड़ को ,
नीड़ केवल तिनकों , ईट पत्थरों से ,
बने घर का ही नाम नहीं ,
नीड़ नाम है आशा का ,
नीड़ नाम है यथार्थ का ,
यथार्थ है नीड़ के प्रति निष्ठा का ,
आस्था  का ,
नीड़ जहाँ तुम निवास करते हो ,
उस सकल राष्ट्र  का ,
नाम है नीड़ ,
और तुम मात्र तिनका हो ,
इस नीड़ का ,
यही यथार्थ है ,
यथार्थ से मुख मोड़कर ,
नीड़ के तिनके तिनके ,
अलग अलग कर ,
ये क्या कर रहे हो ,
तनिक विस्मृति से बहार आओ ,
देखो पाँव भी तुम्हारा है ,
 और कुहाड़ी भी तुम्हारे हाथ में है ,
कोई और क्यों ,
अपने कर्म का , तुम ही फैसला करो ,
स्मरण इतना ही रहे ,
 नीड़ कवच है जीवन का

                           विनोद भगत

 

Wednesday, 22 February 2012

कही अनकही मेरा एक छोटा सा प्रयास है , मैं सभी मित्रों से निवेदन करता हूँ कि मुझे मेरी कमियों से अवगत कराएं ताकि मैं इसमे सुधार कर सकूँ

Tuesday, 21 February 2012

खुद सुधरो


आओ समाज को बदलें ,
आओ लोगो को बदलें ,
आओ सदाचार सिखाएं ,
आओ उपदेश दें ,
आओ सत्य का प्रचार करें ,
आओ दुनिया को नैतिकता का पथ दिखाएँ ,
आओ स्वामी बन कर प्रवचन दें ,
तभी आवाज आयी,
जाओ ...... पहले खुद को सुधार लो ,
तब यह सब करना ,
खुद सुधरोगे सब कुछ बदल जाएगा ,
जो चाहते हो वह सब मील जाएगा
                       विनोद भगत

मैं क्यों लिखता हूँ ,


मैं क्यों लिखता हूँ ,
सच तो यह है ,
कि मैं खुद भी नहीं जानता ,
विचारों  को शब्दों में ढाल कर ,
कुछ कहने की कोशिश करता हूँ ,
मैं कुछ नया नहीं गढ़ता ,
वही जो पहले भी सुना औए लिखा होता है ,
वही सब स्मरण कराता हूँ ,
मैं नहीं जानता मेरे लिखने से क्या होगा ,
पहले भी बहुत कुछ लिखा गया है ,
उसका क्या कोई सार्थक परिणाम हुआ ,
शायद नहीं ,
लोग पढ़ते  रहे ,
कुछ तारीफ़ के पुल गढ़ते रहे ,
जीवन में कौन उतार पाया ,
अच्छी बाते पढने में अच्छी लगती है ,
अमल कब हो पता है ,
शायद इसीलिए मैं सोचता हूँ ,
मैं क्या और क्यों लिखता हूँ ,
पर लिखना मेरा कर्म है ,
फल की इच्छा ना करूँ ,
तो लिखना जारी रहेगा ,


               विनोद भगत

Monday, 20 February 2012

आम आदमी


आम आदमी मुझसे िब्गड़ गया ,
बुरा भला कहने लगा ,
गुस्से में मुझे घूरने लगा ,
लाल पीली ऑंखें िदखाता ,
बोला गाली मत देना ,
आज तो कह िदया ,
आगे से कभी मुझे ,
नेताजी मत कहना ,
जो मेरी कमाई खाता है ,
उसे मेरे बराबर मत बनाना
                  विनोदभगत